स्वादिष्ट और सेहतमंद ग्रीन टी बनाने के उपाय

    0

    Green Teaबहुत से ऐसे लोग है जो जानते है कि चाय पीने से कई नुकसान होते हैं, और इस बात से डरते भी है कि यह आपके सेहत को खराब कर सकती है, फिर भी उन सब को नज़रअंदाज़ कर देते है क्योंकि वह अपने दिन की शुरुवात एक गर्म चाय के साथ करना पसंद करते हैं। लेकिन अगर आपसे कहा जाए की आप बेहिचक चाय पी सकते हैं बिना किसी डर से और वही चाय आपकी सेहत अच्छी भी कर सकती है, तो यकीनन आप के जेहन में एक ही नाम आएगा और वह है ग्रीन टी। पर ग्रीन टी का नाम सुनते ही यह ख्याल भी आने लगता है कि नॉर्मल चाय के मुकाबले इसका स्वाद तो काफी फीका होता है तो रोज इसे कैसे पिया जा सकता है। पर यदि आपको बताया जाए कि ग्रीन टी को आप स्वादिष्ट भी बना सकते है तो आप जरूर आज़माना चाहेंगे। आज कल के युवा अपने आप को फिट और तंदरुस्त रखने के लिए ग्रीन टी का काफी इस्तेमाल करते है भले स्वाद अच्छा लगे या ना लगे पर अगर हम कहें कि जो ग्रीन टी वह पीते है उसे और भी स्वादिष्ट बनाया जा सकता है तब जाहिर है आपका रिएक्शन होगा वॉव.. तरीका मालूम हो जाए तो और भी पीने वालों की तादाद बढ़ जाएगी।

    ग्रीन टी के लाभकारी गुणों के बारे में तो हम सभी अक्सर सुनते ही रहते है। ग्रीन टी में अधिक मात्रा में पोषक तत्व पाये जाते हैं। जो हमारे इम्युनिटी सिस्टम को स्ट्रांग बनाते है। जिससे हमारा शरीर विभिन्न तरह के रोगों से लड़ने लिये मजबूत हो जाता है। ग्रीन टी को मॉर्निंग ड्रिंक की तरह यूज़ करने के अलावा इसे हम अलग-अलग तरह के घरेलू नुस्खों और सौंदर्य संबंधी नुस्खों के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते है।

    गुणों की खान ग्रीन टी आसानी से बाजारों में मिल जाती है। ग्रीन टी ज्यादातर मोटापे को कम करने के लिए इस्तेमाल की जाती हैं पर ग्रीन टी के सेवन से मनुष्य के ब्रेन सिस्टम एवम इम्यून सिस्टम भी दुरुस्त होते हैं और साथ ही शरीर फुर्तीला बनता हैं। अपने शरीर के मुताबिक इसका सेवन एक नियमित मात्रा में ही करना चाहिए क्योंकि अत्यधिक मात्रा में ग्रीन टी पीने से यह हानिकारक भी हो सकती हैं। यह जानने से पहले की ग्रीन टी को कैसे स्वादिष्ट बनाएं हम यह जान लेते है कि ग्रीन टी पीने के क्या फायदे है।

    एन्टी ऑक्सीडेंट से भरपूर

    ग्रीन टी में तीन महत्वपूर्ण पदार्थ होते है जिनमे ORAC, EGCG एवम पॉलीफेनोल शामिल हैं जो कि एंटी ऑक्सीडेंट कैटेचिन से भरपूर है। यह एंटी ऑक्सीडेंट स्वास्थ्य के लिए सबसे महत्वपूर्ण हैं। इनमे विटामिन C एवम विटामिन E भरपूर मात्रा में है। EGCG एक बहुत अच्छा एंटी ऑक्सीडेंट हैं जो कि शरीर की पुरानी बिमारियों से भी आसानी से लड़ लेता हैं।

    कैंसर से बचाए

    एक शौध के अनुसार ग्रीन टी से ब्रेस्ट कैंसर की बीमारी का खतरा 25 % तक कम होता हैं। यह कैंसर विषाणुओं को मार कर शरीर के आवश्यक तत्व को शरीर में बनाये रखता है।

    डायबिटीज से बचाए

    ग्रीन टीडायबिटीज से पीड़ित लोग जैसे ही भोजन करते हैं उनके के खून में शुगर का स्तर बढ़ जाता है। ऐसे में ग्रीन टी बढ़े हुए शुगर लेवल को संतुलित करने में मदद करता है।

    ब्लड प्रेशर को रखे नियंत्रित

    ग्रीन टी के सेवन से शरीर का ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता हैं क्यूंकि यह कॉलेस्ट्रोल के लेवल को बनाये रखता है।

    दांतों की करे रक्षा

    ग्रीन टी में कैफीन होता हैं जो दांतों में लगे कीटाणुओं को मारता हैं, बेक्टेरिया को कम करता हैं और इससे दांत सुरक्षित रहते हैं।

    चेहरे की रौनक बढ़ाए

    ग्रीन टी में एंटी-एजिंग तत्व होते हैं जिससे चेहरे की झुर्रियां कम होती हैं, और चेहरे पर चमक और ताजगी बनी रहती हैं। यह सूरज की तेज से आपकी स्किन को टैन भी नही होने देता। 

    शरीर मे तंदरुस्ती बढ़ाए

    ग्रीन टी में थेनाइन होता है जिससे एमिनो एसिड बनता है, जो शरीर में ताजगी बनाये रखता है। इससे थकावट दूर होती हैं, और मानसिक शांति मिलती है।

    ग्रीन टी में इतने तत्व होने की वजह से निसंदेह इसका स्वाद खराब लगता है तो चलिए आज हम आपको बताएंगे ग्रीन टी को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाने की विधि जिसे आप एन्जॉय करते हुए पी सकेंगे।

    सही पत्ती का चुनाव करें

    ग्रीन टी को स्वादिष्ट बनाने के लिए सही पत्तियों का चुनाव करना बेहद जरूरी होता है। ज्यादातर ग्रीन टी बैग में कम क्वालिटी के पत्ते इस्तेमाल किये जाते है जिसको यूज़ करने से स्वाद अच्छा नही मिलता। खुली और बड़ी पत्तियां सही और अच्छा स्वाद देती है।

    सही तापमान में पकाएं

    सही पत्तियों का चुनाव करने के बाद उसे सही तापमान में पकाना भी उसके स्वाद पर असर करता है। अच्छा स्वाद पाने के लिए पानी को लगभग 160-180 डिग्री तक उबालें। उसके लिए थर्मामीटर लेके पानी का तापमान मापने की जरूरत नही पर जैसे ही पानी मे पहला उबाल आये उसे गैस से हटाकर ठंडा होने के लिए रखे और लगभग 2 से 3 मिनट के बाद उसमें ग्रीन टी के पत्तो को डालें और जरूरी मात्रा में शक्कर या शहद मिलाकर स्वादिष्ट ग्रीन टी का मज़ा लें।

    निम्बू मिलाएं

    ग्रीन टी को सही तापमान में पकाने के बाद आप उसमे निम्बू और शहद या शक्कर मिलाकर चटपटी ग्रीन टी का आनंद ले सकते है। निम्बू के स्वाद से ग्रीन टी की कड़वाहट दूर कर सकते है और शहद के मिठास का मज़ा ले सकते है।

    मिंट का इस्तेमाल करें

    यदि आपको मिंट फ्लेवर पसंद है तो आप ग्रीन टी में पुदीने की पत्ती मिलाके उसके स्वाद को मिन्टी फ्रेश बना सकते है।

    अन्य फ्लेवर यूज़ करें

    ग्रीन टी में कई सारे फ्लेवर ऐड किया जा सकता है, अपने स्वाद अनुसार जो फ्लेवर आपको ज्यादा पसंद हो उसे मिलाकर ग्रीन टी का स्वाद बढ़ा सकते है। ग्रीन टी में आप अदरक या इलाइची डालकर उसका स्वाद बढ़ सकते है। जास्मिन मिलाकर भी आप ग्रीन टी को स्वादिष्ट बना सकते है।

    बर्फ डाल के आइस टी बनाए

    ठंडक किसी भी प्रकार के कड़वाहट को दूर कर सकता है। यदि आपको आइस टी पीना पसंद है तो आप ग्रीन टी को भी वैसे पी सकते है। आइस टी में भी आप अपने स्वाद अनुसार कोई भी फ्लेवर मिलाकर पी सकते है।

    यह सभी नुस्खे स्वाद को बढ़ाते जरूर है पर किसी के वजह से ग्रीन टी की पौष्टिकता कम नही करते। यह नुस्खे आजमा के देखिए यकीनन आपको ग्रीन टी का स्वाद पसंद आएगा और रोजाना इसका सेवन कर पाएंगे।

    और अगर आपको मेडिसिन्स चाहिए तो, मेडलाइफ़ से आर्डर कीजिये।

    Dr Vivek Baliga
    Dr Vivek Baliga is a consultant cardiologist and physician practicing at Baliga Diagnostics, Bangalore. He is the director of HeartSense (http://heartsense.in), an online patient education initiative. He has a special interest in diabetes and cardiovascular disease, and is an expert in the management of lipid disorders and heart failure. In his spare time, he enjoys running and spending time with his wife and son.

    कोई जवाब दें

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.