गठिया के लिए घरेलू उपचार

0

गठियाआपके शरीर के जोड़, घुटने, कूल्हे, कंधे या फिर पूरे शरीर में बिना किसी खास वजह से दर्द और सूजन हो तो सतर्क हो जाएं, आप गठिया की गिरफ्त में हो सकते हैं। गठिया बहुत सामान्य समस्या है जो आपके सामने कई रूपों में आ सकती है। कभी-कभी तकलीफ इतनी बढ़ जाती है कि आपको चलने-फिरने में भी दिक्कत हो सकती है। ज्यादातर लोगों में ये समस्या उम्र बढ़ने के साथ दिखाई देती है, लेकिन आजकल कम उम्र के लोगों में भी ये समस्या देखी जा रही है।

वजह

गठिया के पीछे सबसे बड़ी वजह है, शरीर में यूरिक एसिड का बढ़ जाना। जब शरीर में यूरिक एसिड बढ़ जाता है तो ये जोड़ों में छोटे-छोटे क्रिस्टल के रूप में जमा होने लगता है। इस जमाव के कारण जोड़ों में दर्द और ऐंठन की समस्या होने लगती है। रोग के बढ़ जाने पर तो चलने-फिरने या हिलने-डुलने में भी परेशानी होने लगती है। इसका प्रभाव प्राय घुटनों, नितंबों, उंगलियों तथा रीढ़ की हड्डियों में होता है। उसके बाद यह कलाइयों, कोहनियों, कंधों तथा टखनों के जोड़ों भी दिखाई पड़ता है। गठिया के लिए बाजार में कई तरह की दवाइयां मौजूद हैं, लेकिन शरीरिक श्रम और कुछ घरेलू उपायों से भी इसका उपचार संभव है। यहां देखें ये तरीके…

बड़े काम का पानी

गठियायूरिक एसिड की मात्रा शरीर में संतुलित करने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं। इसके चलते आपको बार-बार पेशाब के लिए जाना पड़ सकता है लेकिन आपको आराम मिल जाएगा।

लहसुन है बेहद लाभकारी

गठिया के ‌इलाज में लहसुन सबसे जाना-माना और लाभकारी इलाज है। इसको रोजाना लेने से गठिया के रोग में आराम मिलता है। सामान्यता कच्चे लहसुन की तीन से चार कलियां सुबह खाली पेट लेना आरामदायक होता है। वैसे अगर इसे खाना पसंद न हो तो इसमें सेंधा नमक, जीरा, हींग, पीपल, काली मिर्च और सौंठ सभी की 2 – 2 ग्राम मात्रा लेकर अच्‍छे से पीस लें। इस पेस्‍ट को अरंडी के तेल में भून लें और बॉटल में भर लें। दर्द होने पर लगा लें, इससे फायदा मिलेगा।

गुणकारी है अदरक

अदरक सभी घरों में आसानी से पाया जाता है। इसमें प्राकृकित रूप से एंटी-इन्फ्लेमेट्री गुण पाए जाते हैं। रोजाना खाने के साथ कच्चा अदरक खाएं, रक्त संचार बढ़ाने के साथ ये दर्द में राहत देता है। इसे सलाद में घिसकर या शहद के साथ भी खा सकते हैं। इसके अलावा अदरक का तेल भी दर्द वाली जगह पर लगाना फायदेमंद होता है।

इन तेलों से करें मसाज

सूजन और गठिया के दर्द से राहत दिलाने में सरसों के तेल का कोई मुकाबला नहीं। सरसों के तेल में लहसुन की कुछ कलियां डालकर उबालें फिर लगाएं तो और भी फायदा होगा।

लहसुन का तेल गर्म करके इसमें प्याज का रस डालें और जोड़ों पर मलें। इसके बाद इसे प्लास्टिक के कवर से ढककर गर्म तौलिया लपेटें। रोजाना सोने से पहले ये उपचार करें, काफी फायदा होगा।

एलोविरा दे राहत

गठियाएलोविरा के पत्‍ते को काटकर उसका जेल दर्द होने वाली जगह पर लगाएं। बाजार में मिलने वाला एलोविरा जेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं मगर घर पर अगर पेड़ है तो ये काफी फायदेमंद होगा।

ऐसे लें हल्दी से लाभ

हल्दी में भी एंटी- इन्फ्लेमट्री गुण होते हैं। सोने से पहले रोजाना हल्दी वाला दूध पिएं, कुछ दिन में आपको सूजन और दर्द में खुद ही फर्क नजर आएगा। इसके अलावा हल्दी और अदरक काकाढ़ा गठिया के लिए रामबाण माना जाता। हल्दी और अदरक दोनों में ही एंटी-इन्फ्लेमेट्री गुण होते हैं। इसके लिए दो कप पानी लेकर इसमें आधा चम्मच पिसा अदरक और आधा चम्मच पिसी हल्दी डालकर उबालें। 10 से 15‌ मिनट तक धीमी आंच पर पानी उबलने दें। स्वाद कसैला न लगे इसके लिए इच्छानुसार शहद मिला लें।

यूकेलिप्टस का तेल भी लाभकारी- यूकेलिप्टस का तेल लेकर सोने से पहले इससे मसाज करें। ये गठिया के ल‌िए बेहद फायदेमंद माना जाता है।

बथुए का रस है रामबाण- हर रोज ताजा बथुआ का रस निकालकर पिएं। ये बेस्वाद लगेगा मगर इसमें स्‍वाद के लिए कुछ भी न मिलाएं। ये रस खाली पेट पीने से ज्‍यादा फायदा होता है। तीन महीने तक ये रस पीने से दर्द से हमेशा के लिए निजात मिल जाती है।

सिकाई न करें पर लें भाप- गठिया में सिकाई मना होता है। लेकिन भाप से सेंक ले सकते हैं। इसके लिए बाल्टी में पानी गर्म डालकर उससे भाप ले सकते हैं।

और अगर आपको मेडिसिन्स चाहिए तो, मेडलाइफ़ से आर्डर कीजिये।

Medlife Medicine Delivery Offer Code

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.